सेनिया गांधी, राहुल गांधी और नेहरू गांधी परिवार के नाम

गरीब   नवाज   अजमेर   की   सच्चाइ   जानने   समझनेके   बाद  ही  अब   देश  विदेश में शांति संभव। 07-02-1989 को राजीव गांधी को दरगाह से ठोकर लगने के बाद 15-03-1989 में विश्वनाथ प्रताप सिंह को  कार्यकारी   प्रधानमंत्री   नियुक्त कर     कांग्रेस को अपदस्त  किया जा चुका है। ऐसी स्थिति में जबतक   हमारे साथ  गरीब  नवाज  चलकर   इनके  प्रस्ताव स्वीकार न किए जाएं देश हीनहीं विदेश भी अराजकता और अशांति से झूझता रहेगा यहां तक केपूर्ण रूप से बर्बाद न कर दिया जाए।क्योकी ईश्वर ने बिना जाती धर्मअपने संचालकों को     सच्चाई एंव एकता अखंडता की ही शिच्छा दी है। जो आज के दौर में मिलना दुर्लभ जान पड़ता है। हमारा देश बहुधार्मिक है

जहां अनेकों धर्म पाए जाते हैं। जिसमें   सिख,    इसाई,जैन बौध,इस्लाम के अलावा हिंदू धर्म के अनेकों अनुयाई है। देश में तमाम धर्मों  को स्वतंत्रता प्राप्त है। इस देश में मुसलमानों से पहले क्षेत्रयि राज्य था जिसे एक करमुसलमानों ने ही भारत  महान का दर्जा दिया ।    अफगानिस्तान से नेपाल    श्रीलंका तक भारत ही हिंदुस्तान था जो जलिम अंग्रेजों को एक आंख न भाया  और कुटनीति कर मुसलमानों से यहां की हुकूमत छीन ली।परन्तु अपने जुल्म से बाज न आए जिस  कारण गांधी जी को गरीब नवाज ने आगे कर के इन जालिमों को यहां की पवित्र धरती से निकाल फेंका। आप बताऐं क्या स्वतंत्रता इसे ही कहते हैं जो पांच जालिम मुल्क जब चाहें किसी भी मुल्क    को बरबाद और असहाय कर दें। वहां की आम जनता को खुन में डूबोएं उनकी सुख शांति छीन कर आसमान के नीचे रहने और भूख से तड़प कर मर जाने पर मजबूर करें। उनकी दौलत लूटकर ले जायें औरतों   की इज्जत लूटें और शांति स्वतंत्रता के अलमबरदार कहलाएं। क्या नोबेल पुरस्कार ऐसे ही जालिमों के      लिए है। रा’ट्रसंघ,नाटो और अन्य संस्था बना कर

दुसरे मुल्कों को बर्बाद करें सहायता के नाम पर उन्हें कर्जदार  बनायें और फिर उन्हें अपदस्त करें। शांति चाहने वाले आइटम बम और दुसरे मारक सशत्र बनायें और दुसरें  देशों पर रोक लगाऐं। ऐसे जालिमों को प्रकीर्ति हरगिज ज्यादा मौका नहीं देगी क्यों की वह जालिमों को मिटा ही देती है। चाहे वह संसार के किसी कोने में क्यों न छुपे हो। हमारे देश में ऐसे लोगों की कमी नहीं है  जो विदेशियों के  बहकावे और लालच में आकर अपने ही देश में अराजकता फैला रहे हैं और इसे   स्वतंत्रता का नाम दे रहे हैं। अत:     आप मुझसे मिलकर पूरी जानकारी प्राप्त कर सकती हैं। कोई भी   मतदान आपको प्रधानूंत्री नहीं बना सकता , बिना गरीब नवाज की माने। अगर    आप या आपके परिवार का कोई व्यक्ति इस पद पर बैठा तो       संभवत: देश का दुर्भाग्य ही खराब होगा।       अब आप की     जिम्मेदारी है आप क्या चाहती हैं ।  देश में शांति और खुशहाली या अशांति और बरबादी फैसला आपको करना है।

देश,देशवासियों का हमदर्द

डा. एस के कादरी

विश्व शांति अभियान  गरीब नवाज अजमेर छोटा शेखपुरा नवादा बिहार भारत

   drskquadri@gmail.com

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s